कुशीनगर :: लाखोंं की लागत से बनी पुलिया और नाली भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ी, तीन साल में तीन बार टूट चुकी है ये पुलिया

मनोज पाण्डेय, कुशीनगर केसरी, कुशीनगर। सरकार ग्राम पंचायतों के समुचित विकास के लिये पानी की तरह पैसे खर्च कर रही है पर भ्रष्टाचार में लिप्त भ्रष्ट ग्राम प्रधानों और सम्बंधित विभाग के भर्स्ट अधिकारियों के लिए यह आमदनी का एक नायाब जरिया बना हुआ है। एक ऐसा ही प्रकरण कुशीनगर जनपद के विकास खण्ड नेबुआ नौरंगिया के ग्राम सभा लक्ष्मीपुर में प्रकास में आया है, जहा पर ग्राम पंचायत के द्वारा आज से लगभग तीन वर्ष पूर्व लाखो की लागत से लक्ष्मीपुर बरगहा, सबया सम्पर्क मार्ग में कासिम अली के घर पास बनवाया गया पुलिया व नाली भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया है।
बता दें कि निर्माण के समय से ही उठ रही उसकी गुडवत्ता और मानक के विपरीत हो रहे कार्य पर शुरूआती दौर में ही विरोध हुआ था। यहांं तक कि सम्बंधित विभाग के अधिकारीयोंं को भी अवगत कराया गया था पर कमीशन के खेल में जांच के नाम पर महज कोरमपूर्ती करके मानकविहीन कार्य को भी मानक में हो रहा है ऐसा कहकर निर्माण कार्य को अतिशीघ्र पूरा करने का आदेश जारी कर दिया गया।
ग्राम पंचायत के द्वारा निर्माणाधीन लाखोंं की लागत पर बना यह पुलिया व नाली बरसात की पहली बारिश भी नहीं झेल पाई और अनेकोंं जगह से रिसने लगी जिससे नाली का पूरा पानी बगल के खेत जो एक गरीब किसान का है उसके खेत मे बह रहा है जिससे उस खेत की उर्वराशक्ति के कमजोर होने के लगभग तीन डिसमिल भूमि पर कोई भी फसल नही होता है। बेचारा किसान भी अनेकोंं जगह शिकायत करकेे थक चुका है पर आज भी यथास्थिति बरकरार है।
मुख्य सम्पर्क मार्ग एनएच 28बी से निकलकर लक्ष्मीपुर, बरगहा, सबया सम्पर्क मार्ग में स्थित यह जर्जर पुलिया अनेको ग्रामसभाओं के साथ समीपवर्ती बिहार प्रान्त को भी जोड़ने वाला एक प्रमुख रास्ते में से एक है। इस जर्जर व टूटी हुई पुलिया से ही प्रतिदिन सैकड़ो छोटी व बड़ी गाड़िया गुजरती है। रात के अंधेरे में छोटी गाड़ीयोंं के अनेकोंं चालक इस टूटी हुई पुलिया मेें फंसकर लगभग दर्जनों राहगीर चोटिल हो चुके हैंं। स्थानीय ग्रामीणों के एक समूह ने बताया कि अनेकोंं बार ग्राम प्रधान व सचिव से शिकायत करने के बावजूद भी यथास्थिति बरकरार है।
ग्राम पंचायत के द्वारा बनवाये गये इस पुलिया को निर्माण के समय से ही वार्ड पंचायत सदस्य व ग्रामीणों के द्वारा विरोध किया गया था क्योंकि इसके निर्माण में निम्न स्तर के ईट, घटिया स्तर के सीमेन्ट व सिल्ट का प्रयोग करके बनवाया जा रहा था। अनेको ग्रामीणों के द्वारा सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों से शिकायत करने और कमीशन के खेल में उक्त शिकायत को हल्के तौर पर लेना आज ग्रामीणों और राहगीरोंं के लिए मुसीबत बना हुवा है। ग्रामीणों के एक समूह ने इसे अतिशीघ्र नये शिरे से बनवाने की मांग की है। उक्त प्रकरण में नेबुआ नौरंगिया खण्ड विकास अधिकारी विनय कुमार द्विवेदी का कहना है कि मुख्य मार्ग पर पुलिया के टूटने की जानकारी मुझे नही है पर ग्राम पंचायत सचिव से उसको दिखलवा कर उसकी कमियों को दूर करवाया जायेगा। जबकि मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार के अनुसार गुडवत्ता विहीन कार्य की जांच करवाकर सम्बंधित के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जायेगी।


Popular posts
बेतिया(प.चं.) :: विश्व शांति दूतों का हुआ अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
Image
कुशीनगर :: भारत सरकार और कोर्ट के आदेश एवं सोसल डिस्टेंस की सरेआम धज्जिया उड़ाकर स्थानीय प्रशासन को दी जा रही है चुनौती, अधिकारी बने धृतराष्ट्र
Image
कुशीनगर :: गोरखपुर -फैजाबाद खण्ड शिक्षक निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों के पुनरीक्षण हेतु दावे/आपत्तियां प्राप्त करने की निर्धारित अंतिम तिथि 26 दिसंबर 2019 को आगे बढाते हुए संशोधित कार्यक्रम किया गया निर्धारित
Image
कुशीनगर :: आयुक्त गोरखपुर मंडल ने कहा कि अयोध्या फैसले पर आपसी सौहार्द बनना नैतिक जिम्मेदारी
Image
सोनभद्र :: दूसरी बार सी आई.एस.एफ रिहंद ने गरीबो में किया अनाज वितरण
Image