मिर्जापुर :: कलेक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी ने तंबाकू नियंत्रण अभियान की तैयारियों की बैठक किया

अन्नपूर्णा श्रीवास्तव मिर्जापुर। जिलाधिकारी  सुशील कुमार पटेल ने तंबाकू नियंत्रण अभियान के तैयारी बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि तम्बाकू का सेेेवन जानलेवा है। विश्व भर में रोकी जा सकने वाली मौत तो हुआ बीमारियों  का एकमात्र कारण तंबाकू है।


जिलाधिकारी ने बताया कि लगभग ६० लाख लोग हर साल तंबाकू के सेवन से अपनी जान गवाते हैं। उन्होंने बताया कि आंकड़ों के अनुसार 6.5 सेकंड में धूम्रपान करने वाले एक व्यक्ति की मौत होती है और लगभग हर वर्ष 09 लाख भारतीय तंबाकू सेवन से मरते हैं जो कि क्षय लोग एड्स और मलेरिया से होने वाली मौतों से अधिक है। बैठक में यह भी बताया कि प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में कैंसर से मरने वाले 100 रोगियों में 40 लोग तंबाकू के प्रयोग के कारण मरते हैं। जिसमें लगभग 95% मुंह के कैंसर तंबाकू सेवन करने वाले व्यक्तियों में होते हैं। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने तंबाकू नियंत्रण प्रभारी डॉ राजेश को निर्देशित किया कि प्रत्येक कार्यालयों में जाएं सबसे पहले प्रत्येक कार्यालयों में तंबाकू का प्रयोग किया जाता पाया जाता है तो उनके विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही कर जुर्माना भी लगाएं। उन्होंने कहा कि तंबाकू से होने वाले नुकसान के बारे में लोगों को प्रचार-प्रसार कर बताया जाए और इसके सेवन न करने के लिए जागरूकता लाई जाए। तंबाकू का सेवन करने वाला व्यक्ति अपने जीवन के लिए नहीं बल्कि अपने परिवार और समाज के लिए भी कैंसर का खतरा पैदा करता है। इसका व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार कर लोगों में जागरूकता लाई जाए।


Popular posts
बेतिया(पश्चिम चंपारण) :: स्वतंत्रता संग्राम सेनानी वीरांगना, बेतिया राज के अंतिम महारानी जानकी कुंवर की 150वीं जन्म शताब्दी समारोह के आयोजन
Image
बेतिया(प.चं.) :: सिविल सर्जन ने डॉक्टरों से मांगा स्पष्टीकरण, मानदेय पर लगाई रोक
कुशीनगर :: कानून ब्यवस्था चुस्त-दुरुस्त बनाये रखने के मद्देनजर पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी पिकेट चेकिंग
Image
बेतिया(प.चं.) :: समय पर राशन नही मिलने से उपभोक्ता परेशान, उपभोक्ताओं ने डीलर पर लगाया कम तौलने का आरोप, प्रखंड विकाश पदाधिकारी ने किया जांच, डीलर को लगाई कड़ी फटकार
Image
बेतिया(प.चं.) :: दूरसंचार विभाग के पूर्व सलाहकार के निधन पर किया गया शोक व्यक्त, माहौल हुआ गमगीन