छपरा :: प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत गर्भवती महिलाओं की हुई प्रसव-पूर्व जांंच, उन्हें बचाव के भी दिए बेहतर परामर्श

• गर्भवती महिलाओं को गुणवत्तापूर्ण प्रसव पूर्व जाँच की सुविधा • पौष्टिक आहार खाने की दी गयी सलाह।विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी, बिहार, छपरा। गर्भवती महिलाओं को गुणवत्तापूर्ण प्रसव पूर्व जाँच की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए प्रत्येक महीने की 9 वीं तारीख को जिले के सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम में सोमवार को सदर अस्पताल सहित प्रखंड स्तरीय स्वास्थ्य केन्द्रों पर गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व जाँच की गयी। साथ ही उच्च जोख़िम गर्भधारण महिलाओं की पहचान कर उचित प्रबंधन सुनिश्चित करने का प्रयास किया गया।


इस दौरान गर्भवती महिलाओं की निःशुल्क प्रसव पूर्व जाँच की गयी। इसमें उच्च रक्तचाप, वजन, शारीरिक जाँच, मधुमेह, एचआईवी एवं यूरिन के साथ जटिलता के आधार पर अन्य जाँच की गयी। साथ ही उच्च जोखिम गर्भधारण महिलाओं को भी चिन्हित किया गया एवं बेहतर प्रबंधन के लिए दवा के साथ जरुरी परामर्श दिया गया। जाँच में एनीमिक महिला को आयरन फोलिक एसिड की दवा देकर इसका नियमित सेवन करने की सलाह दी गयी। एनीमिक महिलाओं को हरी साग- सब्जी, दूध, सोयाबीन, फ़ल, भूना हुआ चना एवं गुड खाने की सलाह दी गयी। साथ ही उन्हें गर्भावस्था के आखिरी दिनों में कम से कम चार बार खाना खाने की भी सलाह दी गयी। सिविल सर्जन डॉ. माधेश्वर झा ने बताया प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान कार्यक्रम का उद्देश्य गर्भवती महिलाओं को गुणवत्तापूर्ण प्रसव पूर्व जाँच की सुविधा उपलब्ध कराने के साथ उन्हें बेहतर परामर्श देना है। बेहतर पोषण गर्भवती महिलाओं में खून की कमी को होने से बचाता है। इसलिए सभी गर्भवती महिलाओं को जाँच के बाद पोषण के बारे में भी जानकारी दी जाती है। उन्होंने बताया इस अभियान की सहायता से प्रसव के पहले ही संभावित जटिलता का पता चल जाता है जिससे प्रसव के दौरान होने वाली जटिलता में काफी कमी भी आती है और इससे होने वाली मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में भी कमी आती है।
उच्च जोख़िम गर्भधारण के कारण ::::... गर्भावस्था के दौरान 4 प्रसव पूर्व जाँच प्रसव के दौरान होने वाली जटिलताओं में कमी लाता है। सम्पूर्ण प्रसव पूर्व जाँच के आभाव में उच्च जोख़िम गर्भधारण की पहचान नहीं हो पाती। इससे प्रसव के दौरान जटिलता की संभावना बढ़ जाती है।  ● गर्भावस्था में 7 ग्राम से खून का कम होना ● गर्भावस्था में मधुमेह का होना ● एचआईवी पॉजिटिव होना(एडस पीड़ित) ● अत्यधिक वजन का कम या अधिक होना ● पूर्व में सिजेरियन प्रसव का होना ● उच्च रक्तचाप की शिकायत होना। उच्च जोख़िम गर्भधारण के लक्षण ::::... ● पूर्व की गर्भावस्थाओं या प्रसव का इतिहास ● दो या उससे अधिक बार गर्भपात हुआ हो ● बच्चा पेट में मर गया हो या मृत पैदा हुआ हो ● कोई विकृत वाला बच्चा पैदा हुआ हो ● प्रसव के दौरान या बाद में अधिक रक्त स्त्राव हुआ हो ● गर्भवती होने से पहले कोई बीमारी हो ● उच्च रक्तचाप ● दिल या गुर्दे की बीमारी ● टीबी या मिरगी का होना ● पीलिया या लिवर की बीमारी ● हाइपोथायराइड होना


Popular posts
बेतिया(प.चं.) :: आंगनबाड़ी सेविका चयन में भारी घपला और बड़ा बाबू की धांधली भी आया सामने
Image
कुशीनगर :: डीप्टी कमिश्नर इन्कम टेक्स कानपुर ने कान्हा फाईनेंन्सियल एडवाइजर एण्ड इन्फ्राटेक का किया शुभारंभ
Image
बेतिया(प.चं.) :: गांधी विचार विभाग के प्रोफ़ेसर विजय कुमार को सौंपा मांगपत्र
Image
रांची(झारखंड) :: रंगदारी मांगने वाले पांडेय गिरोह का गुर्गा धराया, हथियार जब्‍त
Image
मिर्जापुर :: कोरोना जैसी वैश्विक महामारी की खात्मा के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद ने भगवान बुद्ध से किया प्रार्थना, कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने घर पर ही सादगी पूर्वक मनाया बुद्ध पूर्णिमा
Image