छपरा :: पोषण अभियान में बेहतर प्रदर्शन करने वाले होंगे पुरस्कृत

• प्रत्येक परियोजना से एक समूह को मिलेगा पुरस्कार • प्रत्येक समूह को मिलेगी 50000 रूपये की राशि • 6 मापदंडों के आधार पर मिलेगा पुरस्कार।छपरा :: पोषण अभियान में बेहतर योगदान करने वाले कार्यकर्ताओं को पुरस्कृत किया जाएगा. इसको लेकर आईसीडीएस के निदेशक आलोक कुमार ने सभी जिलों के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर जानकारी दी है। पत्र में बताया गया है कि पोषण अभियान के तहत प्रत्येक परियोजना से एक समूह( आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका, आशा, एएनएम एवं महिला पर्यवेक्षिका) को जिला स्तर पर पुरस्कार प्रदान किया जाना है. जिसमें प्रोत्साहन के रूप में प्रत्येक समूह को 50 हजार रूपये की राशि दी जानी है।


पत्र के अनुसार पुरस्कार हेतु समूह का चयन करने के लिए कुल 6 मापदंड बनाये गए हैं. अलग-अलग मापदंडो के लिए अंक भी निर्धारित किए हैं. जिसमें गृह भ्रमण( आईसीडीएस-केस डैशबोर्ड के अनुसार) का 20%, समुदाय आधारित गतिविधियों के अभिसरण के आयोजन का 15%, ग्राम स्वास्थ्य एवं पोषण दिवस के अभिसरण के साथ आयोजन(आईसीडीएस-केस डैशबोर्ड के अनुसार) का 15%, टीकाकरण के लिए 15%, कुपोषित बच्चों का पोषण पुनर्वास केंद्र में रेफर करने का 20% एवं कोई विशेष उपलब्धि हासिल करने का 15% अंक निर्धारित किया गया है। पुरस्कार निर्धारित करने के लिए प्रत्येक जिले में चयन समिति का भी गठन किया गया है. जिसमें जिलाधिकारी या उनके द्वारा नामित पदाधिकारी को अध्यक्ष, सिविल सर्जन को सदस्य, ग्रामीण विकास विभाग के एक अधिकारी को सदस्य, पंचायती राज के एक अधिकारी को सदस्य एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारी को सदस्य सचिव बनाया गया है। जिले के विभिन्न समूहों द्वारा दी गयी प्रस्तावों की पहले समीक्षा की जाएगी. इसके लिए 3 सदस्यों की एक टीम का भी गठन किया गया है. जिसमें आईसीडीएस के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी को अध्यक्ष एवं संबंधित बाल विकास पदाधिकारी एवं जिला समन्वयक/ स्वस्थ भारत प्रेरक को सदस्य बनाया गया है. समीक्षा समिति प्राप्त प्रस्तावों को जाँच कर उसे चयन समिति के समक्ष रखेंगी। केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2018 के मार्च में देश के सभी राज्यों में पोषण अभियान की शुरुआत की गयी. जिसमें विभिन्न विभागों की सहभागिता सुनिश्चित करते हुए बौनेपन में प्रति वर्ष 2%, एनीमिया ( बाल, किशोरी एवं महिलाओं) में 3%, अल्पपोषण में 2% एवं अल्प वजन में 2% कमी करने का लक्ष्य रखा गया है. जिसके लिए आईसीडीएस-कॉमन एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर, विभिन्न विभागों का अभिसरण, व्यवहार परिवर्तन, इनोवेशन एवं क्षमता वर्धन का सहारा लेने पर ज़ोर दिया गया है।


पोषण अभियान के मुख्य उद्देश्य :: • शिशु एवं छोटे बच्चे के पोषण में सुधार • आहार में विविधता • स्वच्छता एवं साफ़-सफ़ाई • बेहतर किशोर पोषण • बेहतर मातृ स्वास्थ्य एवं पोषण • कृमि नाश • ओआरएस-जिंक।


Popular posts
बेतिया(प.चं.) :: आंगनबाड़ी सेविका चयन में भारी घपला और बड़ा बाबू की धांधली भी आया सामने
Image
कुशीनगर :: भाजपा सरकार है किसान विरोधी, तीन बर्षो से नहीं बढ़े गन्ने के दाम : मनोज मोदनवाल
Image
बेतिया(प.चं.) :: मेघा सॉफ्टवेयर के माध्यम से अब होगा छात्र छात्रों का भुगतान : सहायक निदेशक
रांची(झारखंड) :: रंगदारी मांगने वाले पांडेय गिरोह का गुर्गा धराया, हथियार जब्‍त
Image
मिर्जापुर :: कोरोना जैसी वैश्विक महामारी की खात्मा के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद ने भगवान बुद्ध से किया प्रार्थना, कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने घर पर ही सादगी पूर्वक मनाया बुद्ध पूर्णिमा
Image